नेहा श्रीप्रत्यंचा

धर्म केवल सनातन है अन्य सब संप्रदाय हैं:ज्योतिषाचार्य नेहा श्री

सर्वप्रथम नमस्कार के साथ मैं आपको बताना चाहती हूं कि धर्म केवल सनातन है अन्य सब संप्रदाय हैं। भारत एक सेक्युलर देश है यहां बहुत से पंथ और संप्रदाय हैं सबकी अपनी मान्यताएं व रीति रिवाज हैं ।
विषय है गैर हिंदू का मंदिरों में प्रवेश वर्जित होना चाहिए ,उत्तर स्पष्टतया है हां और कारण भी स्पष्ट हैं। इसके कारणों को समझने के लिए मैं पांच भागों में बांट रही हूं ।
पहला है आस्था : मंदिर हमारी आस्था का मूल है जो धर्म द्वारा संचालित है जिसकी सनातन धर्म के मूल में आस्था ना हो उसके मंदिर में प्रवेश का कोई प्रयोजन नहीं है।
दूसरा पूजा पद्धति : मेरे धर्म की पूजा मेरी पद्धति के अनुसार ही हो सकती है जिसको मेरी पूजा पद्धति नहीं पता वह मेरे देवी देवता की किस प्रकार पूजा करेगा अतः हर संप्रदाय की अलग पूजा पद्धति है और उस को मानने वाले ही उससे संबंधित देवता की पूजा करने में समर्थ है ।
तीसरा आचार विचार : हर संप्रदाय की विभिन्न भोजन पद्धति है हिंदू धर्म का भोजन सात्विक है जो मांस भक्षण करने वाले हैं उनका प्रवेश वर्जित होना ही चाहिए।
चौथा है मंदिर कोई पिकनिक पिकनिक स्पॉट नहीं है, जहां पर ड्रेस कोड व धर्म कोड लागू नहीं हो सकता मंदिर देवस्थान है जहां पर नीति नियमों के साथ ही प्रवेश की अनुमति है प्रवेश के पश्चात प्रवेश का प्रयोजन भी वहां के महंत व पुजारी के समक्ष रखा जाना चाहिए।
पांचवा कारण है कि धर्मिक व सामाजिक भावनाएं : जो कि किसी भी सम्प्रदाय के मानने वाले स्वयम ही अनुसरण कर सकते हैं,जिनको नहीं पता कि की किस प्रकार नीति नियमों का पालन करना है वे जाने अनजाने ही सामाजिक व धार्मिक भावनाएं आहत कर सकते हैं ।अतः ऐसी परिस्थिति को आने से पहले रोक देना ही उचित है । यही हमारे देश की कानून व्यवस्था हमारा आपसी सौहार्द व शांति बनाए रखेगा।

pratyancha web desk

प्रत्यंचा दैनिक सांध्यकालीन समाचार पत्र हैं इसका प्रकाशन जबलपुर मध्य प्रदेश से होता हैं. समाचार पत्र 6 वर्षो से प्रकाशित हो रहा हैं , इसके कार्यकारी संपादक अमित द्विवेदी हैं .

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close
%d bloggers like this: